क्या आपने कभी श्री बालाजी महाराज की आँखो में आँखे डालकर देखा है ?

क्या आपने कभी श्री बालाजी महाराज की आँखो में आँखे डालकर देखी हैं ?

क्या आपने कभी श्री बालाजी महाराज की आँखो में आँखे डालकर देखी हैं ?

क्या आपने कभी श्री बालाजी महाराज की आँखो में आँखे डालकर देखने का ध्यान लगाया है ?

आपको ध्यान लगाकर क्या महसूस हुआ है ?

 

मेहंदीपुर बालाजी महाराज अर्थात् श्री राम भक्त हनुमान जिनका सारा समय अपने आराध्य प्रभु श्री रामचन्द्रजी महाराज के चरणों में ही गुजारता है। तो सोचिए जरा कि ऐसे श्री राम भक्त हनुमान जी महाराज की आँखो में क्या बसा होगा ?

क्या श्री रामचरित् मानस के प्रसंग के अनुसार जिस तरह से इनके सीने में साक्षात् प्रभु सिया राम प्रतिबिंबित हुए थे उसी प्रकार से इनकी आँखो में भी मर्यादा पुरुषोत्तम राम का वास है ?

जी हाँ, यह बिल्कुल सत्य है। क्योंकि अक्सर कहा भी जाता है –

तेरे जैसा राम भक्त कोई हुआ ना होगा मतवाला

एक जरा सी बात की खातिर सीना फाड़ दिखा डाला

श्री हनुमान जी महाराज अपने प्रभु के सर्वाधिक प्रिय हैं। और हो भी क्यों न इन्होनें अपनी योग्यता श्री राम जी के समक्ष असंख्य बार प्रकट भी की है। इनकी अविरल भक्ति के कई प्रसंग हम लोग बचपन से सुनते आए हैं।

तो आपने कभी ये सोचा है कि जो हनुमान जी महाराज सदैव टकटकी लगाकर अपने ईष्ट प्रभु श्री रामचन्द्रजी को ध्यान मुद्रा में उन्हें निहारते रहते हैं तो श्री बालाजी महाराज की आँखो में आँखे डालकर देखने से आपको कैसा महसूस होता है।

बालाजी महाराज के कई भक्तों के अनुभवों के आधार पर यही सब कुछ जानने की कोशिश की गई तो पता चला कि कुछ लोग इनकी आँखो की त्राटक साधना करके अभीष्ट सिद्धी को प्राप्त हुए। तो दूसरी ओर इनकी आँखो में देखने से कुछ लोगों को आत्मीय संतुष्टि का आभास हुआ।

ऐसा भी बताया गया कि जो भक्त लोग बालाजी महाराज की आँखो को अपनी बंद आँखो से इन्हें निहारते हैं उनमें एक अलग ही चेतना का प्रसार होता हुआ महसूस हुआ।

कुछ लोग ये भी बताते हैं कि इनकी दृष्टि का ध्यान लगाने से व्यक्ति में निर्भीकता उभर कर आती है। व्यक्ति को स्थिर बुद्धि प्राप्त होती है।

योग विद्या का अभ्यास करने वाले वाले साधक इसे ध्यान लगाने की साधना बताते हैं। कुछ लोग बताते हैं कि बालाजी महाराज की दृष्टि से अपनी दृष्टि मिलाने से उनके कष्ट जिसे मेहंदीपुर में संकट कहा जाता है, दूर हुए हैं और उन्हें बालाजी महाराज की शक्ति के अंश भी प्राप्त हुए हैं जिसे बालाजी महाराज के दूत महाराज कहा जाता है।

ये शक्ति अंश दूत महाराज अपने आप में इतने सक्षम होते हैं जो दूसरे व्यक्तियों के कष्ट भी चुटकी मात्र में हर लिया करते हैं।

भूरे नेत्र वाले वानर राज बजरंग बली श्री हनुमान चुंबकीय आकर्षण रखते हैं। इनकी आंखो की चुंबकीय शक्ति के कारण कोई भी व्यक्ति स्वतः अपने आपको इनकी ओर खिंचा सा महसूस करता है।

इनके नेत्रों की तरफ़ ध्यान लगाने से सभी को किसी ना किसी रूप में लाभ होता पाया गया है। तो दूसरी तरफ, ऐसा भी पाया गया है कि जो लोग छल कपट करने वाले होते हैं या बेईमान किस्म के होते हैं बालाजी महाराज की दृष्टि से या तो ऐसे लोग अपने चरित्र को सुधार बैठे हैं और इनके आगे नतमस्तक हो गए हैं। जो हठी प्रकार के होते हैं वे दंड भी पाते हैं।

ऐसे कई उदाहरण मेहंदीपुर की पावन धरती पर देखने को मिले हैं। यहाँ बताया जाता है कि श्री प्रेतराज सरकार की आँखो से आँखे मिलाकर देखने का जिसने भी चैलेंज स्वीकार किया है, दबे स्वरों में उसने यही बताया है कि कुछ सेकंड में ही आँखो में मिर्च लगने का आभास होता है और आँखे स्वतः बंद हो जाती है।

ये भी पढ़े :-

प्रेतराज सरकार कौन है? क्यों इनकी पूजा बालाजी महाराज से पहले की जाती है?

Mehandipur Balaji Temple – Hindu Temple in Mehandipur, India

मेहंदीपुर बालाजी भूत-नहीं जाना बालाजी। क्या आप डरते हैं बालाजी जाने से ?

आपका ये सिर का दर्द कहीं संकट की निशानी तो नहीं – Mehandipur Balaji Facts

जो लोग सच्चे मन से श्री बालाजी महाराज की आराधना करते हैं उन्हें इनकी आंखो से चमत्कार होते हुए ही दिखायी दिये हैं । और किसी ना किसी रूप में इन्हें आध्यात्मिक लाभ ही प्राप्त हुआ है ।

जिनके रोम रोम में राम बसे हो उनकी आराधना अर्चना करने वाले को प्रभु श्री रामचन्द्रजी महाराज की कृपा स्वतः ही प्राप्त होने लगती है ।

ऐसी मान्यता है कि मेहंदीपुर में हनुमान जी अपने बाल रूप के कारण विख्यात हैं। बताया जाता है कि ये बहुत जल्दी ही अपने भक्तों पर कृपा दृष्टि डालते हैं । मन्नत मुराद मांगने के लिए यहाँ अर्जी लगाने का रिवाज है  जिस पर बालाजी महाराज तुरंत अपना फैसला लिख देते हैं ।

अगर आपने भी इनके नेत्रों का ध्यान लगाकर असाधारण कृपा का अनुभव किया हो तो नीचे जाकर कमेंट बॉक्स में लिख कर हमें भी अवगत कराए ताकि श्री मेहंदीपुर बालाजी महाराज के अन्य भक्तों को भी आपके सुखद अनुभव का आनंद प्राप्त हो सके।

मेहंदीपुर बालाजी का मंदिर – यहाँ बस दो रुपए में बड़े से बड़ा भूत बोलने लगता है ।

Mehandipur Balaji ke Niyam In Hindi – Poori Jankari

 

जय श्री राम

जय बाल हनुमान

मेहंदीपुर दरबार की जय

follow Us On:

3 thoughts on “क्या आपने कभी श्री बालाजी महाराज की आँखो में आँखे डालकर देखी हैं ?

Leave a Reply