Procedure To Purchase A Property Till Construction In Hindi

Procedure To Purchase A Property Till Construction In Hindi

Procedure To Purchase A Property Till Construction In Hindi

किसी भी प्लॉट को खरीदने से लेकर उस पर कंस्ट्रक्शन करने तक का पूरा प्रोसीजर क्या है ?

सबसे पहले आपको अपनी जरूरत के हिसाब से एक प्लॉट फ़ाइनल करना होगा। ये आप दो तरीकों से कर सकते हैं।

  1. इसके लिए या तो आप प्रत्यक्ष रूप से प्लॉट के स्वामी से मिल सकते हैं। या,
  2. आप प्लॉट के लिए प्रोपर्टी डीलर से भी मिल सकते हैं।

ये दोनों ही तरीके सही हैं। यदि आप प्रत्यक्ष रूप से ओनर यानि प्लॉट के मालिक से मिलते हैं तो इसमें आपको सिर्फ प्लॉट का प्राइस यानि कि जमीन की कीमत देनी होती है जबकि अगर आप किसी प्रोपर्टी डीलर से कोई प्लॉट ढूंढवाते हैं तो इसमें आपको प्लॉट की कीमत और उसके साथ ही प्रोपर्टी डीलर को कुछ कमिशन भी देना होता है।

ये कमिशन प्रोपर्टी की कॉस्ट पर निर्भर करता है। प्लॉट ढूंढने के बाद आपको सबसे पहले यह चेक करना होता है कि जो व्यक्ति उस प्लॉट को सेल यानि बेच रहा है उसके पास उसे बेचने का अधिकार है या नहीं ? इसके लिए आप प्रोपर्टी के डॉक्युमेंट्स देखिए। अगर वह प्रोपर्टी का स्वामी नहीं है तो पावर ऑफ अटॉर्नी ( Power Of Attorney ) देखिए। आप प्रॉपर्टी के डॉक्युमेंट्स और पावर ऑफ एटॉर्नी की एक कॉपी उससे ले लीजिए।

इसके बाद आपको उस प्रोपर्टी के आसपास रहने वाले लोगों से पूछताछ करनी है जैसे कि जो प्रोपर्टी आप खरीद रहे हैं उस पर कोई कानूनी केस तो नहीं चल रहा है।

प्रोपर्टी और डॉक्युमेंट्स देखने के बाद अब बारी आती है पेमेंट ( Payment ) करने की। ज्यादातर लोग रजिस्ट्री से पहले ही पूरा पेमेंट कर देते हैं इसमें कोई हर्ज नहीं है लेकिन पेमेंट कैश मे नहीं करना चाहिए। या तो आप Cheque से पेमेंट करिए या फिर नेट बैंकिंग के द्वारा। जो भी आप पेमेंट कर रहे हैं उसे आपको लिख लेना चाहिए और उस पर आपको बेचने वाले ( Seller ) और दो गवाहों के हस्ताक्षर करवा लेने चाहिए ताकि अगर आगे चलकर आपको कोई समस्या आए तो इसे सबूत ( Evidence) के रूप में इस्तेमाल किया जा सके।

यहाँ पर आपको एक बात ध्यान में रखनी है कि एक प्रोपर्टी के दो तरह के रेट होते हैं।

  1. सरकारी रेट
  2. Selling रेट

रजिस्ट्री में जो स्टांप ( Stamp) लगते हैं वो सरकारी रेट के हिसाब से लगते हैं। Selling रेट के हिसाब से नहीं लगते हैं। ज्यादातर सरकारी रेट कम होते हैं जबकि Selling रेट कम होते हैं। जैसे कि आप यदि कोई 20 लाख रुपये का कोई प्लॉट खरीद रहे हैं तो 20 लाख इसका Selling रेट है जबकि इसका सरकारी रेट कम होगा। ये सरकारी रेट हर राज्य के हिसाब से अलग अलग हो सकता है। ये आप Internet के माध्यम से चेक कर सकते हैं।

प्रोपर्टी का जो सरकारी रेट होता है, उसी के हिसाब से रजिस्ट्री के टाईम स्टांप लगते हैं जैसे कि मैंने माना 13 लाख रुपये का एक प्लॉट Purchase किया, और उसका सरकारी रेट था 4 लाख रुपये तो उस पर 56,000 रुपए के स्टांप लगे थे।

अब बात आती है कि रजिस्ट्री के लिए कौन कौन से डॉक्युमेंट्स की जरूरत पड़ती है ?

Documents Required For Registration Of A Property

  • Seller के फोटोग्राफ
  • Seller का Identity प्रूफ
  • Buyer के फोटोग्राफ
  • Buyer का Identity Proof
  • दो गवाहों के फोटोग्राफ
  • दोनों गवाहों के Identity proofs
  • जो Buyer है, उसका खरीदे जाने वाले प्लॉट मे खींचा गया फोटोग्राफ

इसके बाद आपको एक डेट फ़िक्स कर लेनी चाहिए जिस दिन आपको रजिस्ट्री के लिए Registrar ऑफिस जाना है। यहां आपको ऊपर लिखे सभी डॉक्युमेंट्स और दो गवाहों के साथ जाना होता है। Registrar ऑफिस के बाहर आपको कई वकील मिल जाएंगे जिन्हें कातिब भी कहा जाता है। आपको यहां से एक वकील Hire करना है। सभी वकीलों की फीस लगभग एक जैसी ही होती है। स्टांप के अलावा वो 15-20 हजार अलग से लेते हैं डॉक्युमेंट्स तैयार कराने के लिए।

जो भी आप वकील Hire करेंगे वो आपके रजिस्ट्री के डॉक्युमेंट्स तैयार कराएगा साथ ही वो उसमे सरकारी रेट के हिसाब से स्टांप लगाएगा। रजिस्ट्री के डॉक्युमेंट्स तैयार करने मे वकील को एक से दो घंटे का टाईम लगता है। इसके बाद आपको इन डॉक्युमेंट्स के साथ Registrar ऑफिस मे जाना होता है। वहां पर आपको Mostly तीन काउन्टर मिलते हैं।

First Step Of  Procedure To Purchase A Property Till Construction In Hindi :-

पहले काउंटर पर रजिस्ट्रेशन Verify किया जाता है। Seller से पूछा जाता है कि क्या आप प्रोपर्टी बेच रहे हैं? Buyer से पूछा जाता है कि क्या आप प्रोपर्टी खरीद रहे हैं? गवाहों से पूछा जाता है कि क्या आप गवाह है और पूछा जाता है कि पेमेंट हो गया है या नहीं और कितना पेमेंट हुआ है?

वहां पर जो सरकारी रेट है वही बताना होता है। जैसे कि यदि आपने कोई प्रोपर्टी 10 लाख रुपये की Purchase की है और उसका सरकारी रेट 4 लाख रुपये है, तो वहां पर आपको यही बताना होता है कि 4 लाख रुपये मे सौदा हुआ है और भुगतान हो गया है या फिर आगे भविष्य में होगा।

Second Step Of Procedure To Purchase A Property Till Construction In Hindi :-

इसके बाद दूसरे काउंटर पर Seller, Buyer और गवाहों के फिंगर प्रिंट लिए जाते हैं और आंखो का स्कैन भी किया जाता है।

Third Step Of Procedure To Purchase A Property Till Construction In Hindi :-

इसके बाद रजिस्ट्री के पेपर तीसरे काउंटर पर जमा कर दिए जाते हैं। और वहां पर सिग्नेचर किए जाते हैं। वहां से आपको कुछ दिनो के बाद प्रोपर्टी के डॉक्युमेंट्स मिल जाते हैं। जब आपको वहां से प्रॉपर्टी के डॉक्युमेंट्स मिल जाते हैं तो आप उस प्रोपर्टी के मालिक बन जाते हैं।

तो यह तो हुआ प्रॉपर्टी को खरीदने का पूरा प्रोसीजर। इसके बाद अगर आप उस प्लॉट पर कंस्ट्रक्शन कराना चाहते हैं तो आपको उसका एक नक्शा बनवाना होगा और एक एप्लीकेशन लिखनी होगी, एक Affidavit बनवाना होगा और इन तीनों डॉक्युमेंट्स को प्रॉपर्टी के एरिया की नगर पालिका मे देना होगा।

नक्शा आप 200 से 300 रुपये में बनवा सकते हैं साथ ही एक एप्लीकेशन आप खुद भी टाइप कर सकते हैं जिसमे आपको लिखना होता है कि ये मेरा प्लॉट है, ये मेरा एड्रेस है इसमे मै कंस्ट्रक्शन कराना चाहता हूं, कृपया अनुमति दीजिए।

एक Affidavit बनवाना होता है जो कोई भी एडवोकेट 50 से 100 रुपए मे बनवा देता है। उस प्रोपर्टी का नक्शा, ये Affidavit और एप्लीकेशन ये तीनों डॉक्युमेंट्स आपको नगर पालिका मे जमा करने होते हैं। उसके बाद वहाँ से एक ऑफिसर आता है और आपका प्लॉट चेक करता है और आपके नक्शे को पास कर देता है। इसके बाद आप उस प्लॉट पर कंस्ट्रक्शन करा सकते हैं।

तो ये पूरा Process होता है Procedure To Purchase A Property Till Construction In Hindi कराने तक का।

follow Us On:

Leave a Reply