सालासर बालाजी फोटो salasar balaji image

सालासर बालाजी महाराज की सारी जानकारी – क्यों, कब और कैसे ?

श्री सालासर बालाजी दरबार ये एक ऐसा दरबार है जहां लाखों – करोड़ों की संख्या में लोग आते हैं और दर्शनार्थी श्री सालासर बालाजी महाराज का आशीर्वाद लेकर जाते हैं और ये एक ऐसा स्थान है जहां आप अपने मन की मनोकामना मांगते हैं तो वो पूर्ण होती ही है और बालाजी महाराज का आशीर्वाद आपको हमेशा मिलता रहता है।

A Trip To Salasar Balaji ( सालासर बालाजी, राजस्थान )

Temple View – सालासर बालाजी

सालासर बालाजी मंदिर के मुख्य द्वार से अगर आप देखेंगे तो इस स्थान की शांति और इस जगह की सौम्यता आपको नज़र आएगी। यहां का आध्यात्मिक वातावरण आपको एक मानसिक शांति की अनुभूति करवाता है। आसपास बनी प्रसाद की बनी दुकाने नजर आती हैं, लोग आते हैं और यहां से शुद्ध प्रसाद प्राप्त करते हैं और नारियल लेते हैं।

यहां नारियल और ध्वजा का बहुत महत्व है। बालाजी का यहां लाल रंग का एक जुड़ाव माना जाता है। लाल रंग की ध्वजा यहां चढ़ाई जाती है। अपनी इच्छा पूर्ति हेतु लोग यहाँ आते हैं और बाबा के दर्शन करते हैं।

जब यहां मेला आयोजित होता है तो मंदिर के पीछे का द्वार भी भक्तों के लिए खोल दिया जाता है।

सालासर बालाजी मंदिर प्रवेश द्वार से प्रवेश करते ही आपको श्री हनुमान सेवा समिति रजि. कार्यालय दिखायी देगा। अगर आपको यहां कोई शिकायत हो, समस्या हो या किसी भी तरह की परेशानी हो तो आप सेवा समिति कार्यालय में आ सकते हैं। फोन से भी आप यहां से सहायता प्राप्त कर सकते हैं। इस कार्यालय का फोन नंबर 01568-252010 है।

श्री हनुमान सेवा ट्रस्ट के उद्देश्य

ये हनुमान सेवा समिति एक पब्लिक ट्रस्ट है। मंदिर के बाहर का जो भी कार्य होता है चाहे मंदिर की सफाई हो, पानी, बिजली और यात्रियों की व्यवस्था हो या यहां की धर्मशालाओं का पर्यवेक्षण हो इस समिति के मुख्य कार्य हैं।

  1. अन्य विकास कार्य जैसे सड़क निर्माण, हॉस्पिटल और धर्मशालाओं का निर्माण भी इस समिति के सौजन्य से होते आए हैं।
  2. प्रातः सुबह पांच बजे से रात्रि दस बजे तक श्रद्धालुओं को यहां दर्शन करवाना।
  3. सुव्यवस्थित ढंग से लोगों की मनोकामना सालासर बालाजी महाराज से पूर्ण करवाने का कार्य।
  4. मंदिर तक ले जाकर दर्शन करवाने का कार्य।
  5. सालासर बालाजी मंदिर के अंतर्गत आने वाली इस समिति के सुपरविजन में कुछ धर्मशालाओं में यात्रियों के रुकने के लिए निःशुल्क व्यवस्था भी की जाती है। यात्री सीधे इस समिति के माध्यम से भी धर्मशाला में रुकने हेतु बुकिंग करवा सकते हैं। अन्य धर्मशालाओं में रुकने हेतु कुछ चार्ज लिया जाता है।

सालासर बालाजी मे प्रसाद वितरण Salasar Balaji Temple Timings

सुबह पांच बजे से रात्रि दस बजे तक भक्तों के लिए यहां चरणामृत के रूप में प्रसाद वितरण भी किया जाता है।

सालासर बालाजी मे लगने वाले विशाल मेले

अप्रेल माह में यहां हनुमान जयंती और अक्टूबर में शरद पूर्णिमा का बहुत ही भारी मेला लगता है। बताया जाता है कि मेले के दौरान यहां दर्शन हेतु 6 किलोमीटर तक लंबी लाइन लग जाया करती है।

मंदिर के अंदर का दृश्य – सालासर बालाजी सवामणी

मंदिर के अंदर प्रवेश करते ही आपको यहां प्रसाद की दुकाने दिखायी देंगी जहां आप सवामनी का प्रसाद प्राप्त कर सकते हैं। इसके लिए सवामनी के पैसे जमा करवा दिए जाते हैं और तुरंत सवामनी आपको मिल जाती है। ये सवामनी चूरमा, लड्डू, बर्फी, बेसन की बर्फी की होती है। चूरमे की सवामनी 7800 रुपये तो लड्डू की सवामनी 12500 रुपये की होती है।

सभी तरह की सवामनी पचास किलोग्राम होती है जिसमे से 8 se 10 किलोग्राम का भोग श्री सालासर बालाजी भगवान् को लगाया जाता है। बाकी बची हुई सवामनी लगाने वाले को प्रसाद स्वरूप दे दी जाती है। जिसे वह प्रसाद के रूप में लोगों को बांट सकता है या अपने घर भी ले जा सकता है।

सालासर बालाजी धाम मे मुंडन यानि जडूला

यहां मुंडन करवाने का भी रिवाज है। छोटे बच्चे जब उनके पहली बार बाल उतारे हैं वो भी यहाँ उतारे जाते हैं। जिसे यहां स्थानीय भाषा में जडूला कहा जाता है।बहुत सारे लोग दूर दूर से यहां आते हैं और बच्चों का जडूला करवाते हैं।

कई लोग टोली बनाकर बस भरकर तो कुछ अपने पूरे परिवार के साथ यहां सालासर बालाजी धाम पहुंचते हैं।

सालासर बालाजी – यहाँ स्वच्छता की स्थिति

अन्य मंदिरों की तुलना में यहाँ स्वच्छता की स्थिति काफी अच्छी है। जितने भी यात्री यहां आते हैं यहां मंदिर की स्वच्छता और साफ सफाई को लेकर संतुष्ट होकर जाते हैं और काफी प्रशंसा भी करते हैं।

यहां की सड़के चाक चौबंद है। धर्मशालाओं की स्थिति बेहद ही अच्छी है साथ ही यहां के स्थानीय लोगों का बर्ताव, इनकी एकता और समरसता इस स्थान की लोकप्रियता को दिन दूनी रात चौगुनी की ओर ले जा रही है।

ये एक ऐसा दरबार है जहां लोग बहुत ही दूर दूर से आते हैं और पूरी श्रद्धा से आते हैं। जब यहां श्रद्धा भाव से आये और सद्भाव ना मिले तो मन में एक सुकून नहीं होता। इस जगह की सद्भावना बहुत ही पवित्र है और लोग यहां बड़े मन से और चाव से यहां दर्शन करते हैं।

हमेशा हनुमान चालीसा, सुंदर कांड और बजरंग बाण का पाठ होता है यहां – सालासर बालाजी

मंदिर परिसर में ही एक हाॅल है जहां हर समय हनुमान चालीसा और सुंदर कांड आदि का पाठ चलता रहता है। भक्त यहां आ सकते हैं, बैठ कर सुंदर कांड का पाठ कर सकते हैं। यहां पर किए हुए पाठ की शक्ति आपको मिलेगी। आप हमेशा अपने जीवन की बाधाओं को दूर करेंगे।

ये एक ऐसा स्थान है जहां हमेशा मंत्र जप होते हैं और हनुमान चालीसा की चौपाइयाॅ पढ़ी जाती है। ऐसा स्थान बहुत ही पवित्र स्थान बन जाता है और सालासर बालाजी महाराज का आशीर्वाद यहां पर बना हुआ है।

पांच मिनट रुक कर यहां पाठ अवश्य ही करना चाहिए इसका आनंद आपको जरूर मिलेगा।

यहां के युवाओं का दृष्टिकोण – सालासर बालाजी

सिद्धपीठ सालासर बालाजी महाराज बड़ी आस्थाओं का केंद्र है। महात्मा मोहन दास जी महाराज द्वारा सालासर बालाजी महाराज की स्थापना करके यहां अपने भांजे को ये मंदिर सौंप कर एक ही जिम्मेदारी दी है कि आये हुए किसी भी भक्त को किसी भी प्रकार की सुविधा सभी प्रकार की मिले, असुविधा न हो और उन्ही की सेवा के लिए आप तत्पर तैयार रहें और मोहन दास जी महाराज की इसी प्रेरणा को यहां के स्थानीय युवा आगे बढ़ा रहे हैं।

सालासर बालाजी महाराज का यहां भक्तों से सीधा सम्पर्क रहता है और जब मर्जी भक्त सीधे बालाजी महाराज से सम्पर्क बांध कर अपनी अरदास लगाते हैं और यहां नारियल बांधने की भी एक परम्परा है। किसी भी भक्त को अपनी कोई अरदास लगानी होती है तो ये प्रायः मंदिर परिसर में स्थित पेड़ पर ये नारियल बांधते हैंमनोकामना पूरी होने पर दुबारा यहां आकर दर्शन करना जरूरी माना जाता है।

भक्तों के अनुसार जो कोई भी यहां आकर सालासर बालाजी महाराज के दर्शन कर लेता है उसे स्वयं ऐसा अनुभव होता है जैसे मानो इन्होनें इनके सारे कष्ट हर लिए हो।

बाबा मोहन दास जी की समाधि – श्री सालासर बालाजी मंदिर

यहां मंदिर के अंदर ही बाबा मोहन दास जी की समाधि है। ऐसा माना जाता है कि इनके दर्शन किए बगैर सालासर बालाजी महाराज के दर्शन पूर्ण नहीं माने जाते हैं। अगर आप भी यहां आए तो एक बार इस समाधि के दर्शन जरूर करके जाए।

मोहन दास जी महाराज अपने बाल समय से ही साधु थे और अपनी बहन के परिवार को पालने के लिए इस सालासर नामक ग्राम मे आए थे। ये सदैव हनुमान जी की भक्ति में लीन रहते थे।

जब बालाजी महाराज की यहां स्थापना हो गयी उसके कुछ समय बाद उनकी बहन का देहावसान हो गया। जहां उनकी बहन का देहावसान हुआ उसके बराबर में ही इन्होनें भी जीवन समाधि ले ली।

ये अपनी बहन की सेवा के लिए यहां आए थे और बहन की सेवा के लिए ही आज तक यहां है। वो समाधि रूप में आज भी यहां विराजमान हैं और इन्होंने अपना चोला और पूजा का अधिकार अपने भांजे को दिया।

इस तरह की बहन भाई की समाधि और भाई बहन का अटूट प्रेम सालासर धाम के अलावा पूरे विश्व में शायद ही देखने को मिले। इसलिए आप जब भी यहां आए यहां अवश्य दर्शन के लिए आए। ये दर्शन एक शक्ति प्रदान करता है जो संकट आदि को हर लेता है। यहां प्रतिदिन मोहन दास जी की मंगल स्तुति भी गायी जाती है।

समाधि परिसर के सन्मुख बना शिवलिंग – सालासर बालाजी टेम्पल , राजस्थान

बाबा मोहन दास जी की समाधि के दर्शन करके जैसे ही आप बाहर को आएंगे आपको सामने ही शिव जी महाराज के शिवलिंग के दर्शन होते हैं। यहां जल चढ़ाने से मानसिक शांति मिलती है। आपकी कुंडली में बैठे चंद्रमा को शक्ति मिलती है और मन शांत होता है।

सालासर बालाजी की धूनी

माना जाता है कि अगर सालासर बालाजी सरकार है तो ये धूनी सुप्रीम कोर्ट है। इस धूनी पर धोक लगाए बिना यात्री की यात्रा सफल नहीं मानी जाती। यहां की व्यवस्था ऐसी है कि मंदिर में आने से पहले धोक लगाओ और जाते समय धूनी को प्रणाम करो। इस धूनी की भभूत हजार बीमारियों और रोगों की संजीवनी मानी जाती है।

जो कोई भक्त इस भभूत को श्रद्धा से लेता है तो हजार प्रकार के रोग और पाप कटते हैं, मन शांत होता है। बहुत से लोग लोहे की कील ले कर आते हैं और इस धूनी के चारों ओर घुमाकर अपने घर ले जाकर चारो कोनों में गाड़ देते हैं। बताया जाता है कि इससे घर में एक सकारात्मकता आती है।

भक्त इस धूनी मे प्रसाद का भोग लगाते हैं और इसकी परिक्रमा करते हैं एवं यहां की भभूत प्रसाद स्वरूप अपने घर ले जाते हैं।

Salasar Balaji Temple location – सालासर बालाजी मंदिर लोकेशन

यह स्थान सुजानगढ़ पंचायत समिति के अंतर्गत आता है। राजस्थान के चूरू जिले में यह मंदिर जयपुर – बीकानेर राष्ट्रीय राजमार्ग पर सालासर बालाजी धाम का मन्दिर स्थित है। यह मंदिर सीकर शहर से 57 किलोमीटर और सुजानगढ़ से 24 किलोमीटर की दूरी पर है।

Salasar Balaji Distance From Main Cities : सालासर बालाजी

  • दिल्ली – 335 किलोमीटर
  • जयपुर – 171 किलोमीटर
  • आगरा – 415 किलोमीटर
  • अहमदाबाद – करीब 700 किलोमीटर
  • इन्दौर – तकरीबन 750 किलोमीटर
  • मुंबई – लगभग 1200 किलोमीटर
  • लखनऊ – 750 किलोमीटर
  • रतनगढ़ – 50 किलोमीटर
  • लक्ष्मणगढ़ – 30 किलोमीटर
  • पिलानी – 170 किलोमीटर

Difference / Distance Between Salasar Balaji And Mehandipur Balaji

मेहंदीपुर बालाजी और सालासर बालाजी दोनों ही स्थान राजस्थान राज्य में पड़ते हैं। मेहंदीपुर राजस्थान के दौसा जिले में आता है तो दूसरी ओर सालासर बालाजी चूरू सीकर क्षेत्र में आता है।

मेहंदीपुर से सालासर धाम की दूरी सड़क मार्ग द्वारा करीब 292 किलोमीटर पड़ती है। तकरीबन 5 घंटों में मेहंदीपुर से सालासर ड्राइविंग द्वारा पहुंचा जा सकता है। मेहंदीपुर बालाजी की मान्यता भूत – प्रेत आदि कष्टों को दूर करने वाले संकट मोचन के रूप में जाना जाता है तो दूसरी ओर सालासर बालाजी महाराज मनोकामना को पूरा करने के लिए प्रसिद्ध हैं।

How To Reach Salasar Balaji – सालासर बालाजी कैसे पहुंचे ?

राजस्थान राज्य पथ परिवहन निगम द्वारा संचालित बस वगैरह आपको जयपुर, दिल्ली और बीकानेर आदि प्रमुख शहरों से मिल जाती है।

हवाई मार्ग द्वारा जयपुर आप इंडियन एयरलाइन्स और जेट एयर की फ्लाइट से सीधे पहुंच सकते हैं। जयपुर से सालासर बालाजी आप टैक्सी या बस के द्वारा 3 से 4 घंटे में पहुंचा जा सकता है।

अगर आप ट्रेन द्वारा जाने के शौकीन हैं तो यहां पहुंचने के लिए निकटतम Nearest Railway Station सुजानगढ़, सीकर, रतनगढ़ और Didwana है।

Story And History Of Salasar Balaji Temple In Hindi – सालासर बालाजी हिस्ट्री इन हिंदी – सालासर बालाजी की कथा

जैसा कि आपको बताया गया है कि यहां श्री मोहन दास जी की समाधि है। ये मोहन दास जी सीकर में आने वाले रुल्याणी ग्राम में निवास करने वाले ब्राह्मण श्री लच्छीराम पाटोदिया जी के सबसे कनिष्ठ पुत्र हैं।

प्रारंभ से ही मोहनदास जी सत्संगी स्वभाव के थे।परिवार की धार्मिक और आध्यात्मिक पृष्ठभूमि मे जन्म लेने के कारण ये हर समय पूजा पाठ में ही लगे रहते थे।

इनकी जन्म कुंडली के सितारे ऐसे थे कि जिस ज्योतिषी ने इसे देखा यही कहा कि ऐसा भाग्य किसी को ही शायद मिलता है जो इस कुंडली में लिखा है।

मोहनदास जी की एक बहन जिनका नाम कान्ही बाई था। बहन का विवाह होने के बाद ये अपने ससुराल सालासर ग्राम चली गई। इनका एक पुत्र हुआ जिनका नाम उदय रखा गया। ऐसा बताया जाता है कि एकमात्र पुत्र उदय के जन्म के कुछ समय के बाद ही कान्हीबाई के पति का स्वर्गवास हो गया और वह विधवा हो गई।

बहन पति के गुजरने के बाद अकेली पड़ गई। एकमात्र पुत्र उदय का जीवन संवरना था तो दूसरी ओर पति के जाने के बाद की परेशानियां। मोहन दास जी अपनी बहन को बहुत चाहते थे। जैसे ही उन्होंने अपनी बहन के दिल का दर्द महसूस किया वे अपना पैतृक गांव छोड़कर बहन के गांव सालासर को चल दिए और वहीं रह कर अपनी बहन को सहारा देने लगे।

बहन के पति विरासत में कुछ खेत छोड़कर गए थे। मोहन दास जी बहन के खेत में अपना पसीना बहाने लगे। कठिन परिश्रम के बल पर खेतीबाड़ी अच्छी होने लगी जिससे आर्थिक स्थिति सुधरने लगी। भांजे उदय का लालन पोषण भी अच्छे से होने लगा।

धीरे धीरे समय के साथ उदय युवावस्था को प्राप्त हुआ और उसका विवाह भी कर दिया गया। रोज की ही तरह मोहन दास जी और उदय सुबह सुबह खेत में कार्य करने के लिए घर से निकले।

मोहनदास जी गंडासे से खेत में कार्य कर रहे थे यकायक उन्हें लगा कि किसी ने मानो उनका गंडासा छीन कर फेंक दिया हो। अचरज भरी दृष्टि से देखकर मोहनदास जी उसे उठाकर फिर से अपने काम में लग गए। फिर से यही हुआ। दूर काम कर रहे भांजे उदय ने ये सब देखा तो उसे लगा कि मामा जी की तबीयत ठीक नहीं है और उन्हें कुछ देर आराम करने की सलाह दी।

मोहनदास जी ने उदय को बताया कि तबीयत को कुछ नहीं हुआ है बल्कि कोई मेरा गंडासा छीन कर बार – बार फेंक रहा है जो कि दिखाई नही दे रहा। शाम को घर आने के बाद उदय ने ये बात अपनी माता जी को विस्तार से बतायी। बहन ने सोचा कि घर का ज्यादा बोझ उठाने के कारण उनके भाई की ये स्थिति हो गई है और अब वक़्त आ गया है कि भाई का विवाह करा देना चाहिए।

बहन ने भाई को विवाह करने के लिए कहा लेकिन मोहनदास जी ने साफ मना कर दिया और कहा कि जिस किसी से भी मेरी शादी होगी वह मृत्यु को प्राप्त होगी। भाई की बात अनसुनी करके बहन ने एक जगह विवाह की बात चलाई लेकिन शादी से पूर्व ही उस लड़की की मृत्यु हो गई। इसके बाद बहन ने फिर कभी विवाह का दवाब नहीं डाला।

समय बीतने के साथ – साथ मोहनदास जी ने ब्रह्मचर्य को अपना लिया और प्रभु भक्ति मे लीन रहने लगे। एक दिन कान्ही बाई अपने पुत्र उदय और भाई मोहनदास जी को भोजन परोस रही थी तभी उनके द्वार पर कोई भिक्षुक भिक्षा मांगने आ गया। जब बहन भोजन देने दरवाजे पर गयी तब तक वो भिक्षुक दृष्टि से गायब हो गया।

बहन के पीछे – पीछे भाई मोहनदास जी भी आ गए थे उन्होने भी ये सब देखा। लेकिन जैसे मानो उनकी अंदरूनी आवाज कह रही हो कि ये तो स्वयं सालासर बालाजी महाराज ही थे। बहन कान्ही को बहुत दुख हुआ कि वह समय पर दरवाजे तक नहीं पहुंच सकी।

उन्हे विश्वास था कि भाई मोहनदास पूजा के समय बालाजी महाराज से बाते करते हैं। उन्होंने भाई से सालासर बालाजी महाराज के दर्शन कराने के लिए कहा। मोहनदास जी ने उन्हें थोड़ा सब्र रखने को कहा और दर्शन के लिए आश्वासन दिया।

कुछ माह बीतने के बाद बहन के द्वार पर फिर से किसी साधु ने दस्तक दी। बहन ने दौड़ कर भाई मोहनदास जी को बताया और वे दौड़े – दौड़े घर तक आए। लेकिन तब तक साधु जी घर से वापिस लौट चुके थे। मोहनदास जी लोगों से उनकी दिशा पूछ कर उस दिशा में भागे।

पास आने पर मोहनदास जी साधु रूप में बालाजी महाराज को पहचान गए और उनके चरणों में लेट गए और अपनी देरी के लिए क्षमा माँगने लगे। उनकी इस अविरल भक्ति से बालाजी महाराज बहुत प्रसन्न हुए और मोहनदास जी की इच्छा पूरी करने को कहा।

मोहनदास जी ने बालाजी महाराज से विनय की कि आप मेरी बहन को दर्शन दीजिए। इस पर बालाजी महाराज बोले, “मै तुम्हारा आग्रह स्वीकार करता हूं। मै पवित्र आसन पर विराजमान होऊंगा और खीर मिश्री के साथ चूरमे का भोग स्वीकार करूंगा”।

मोहनदास जी बालाजी महाराज को साधु के वेश में अपने घर ले आए और उन्हे अपनी बहन के साथ मिलकर स्वच्छ आसन पर बिठाकर खीर मिश्री और चूरमे का भोजन कराया। स्वच्छ और सुंदर स्थान पर बालाजी महाराज ने विश्राम भी किया।

भाई बहन की सेवा भाव से खुश होकर बालाजी महाराज बोले, “कोई भी मेरी छाया को अपने ऊपर लेने की कोशिश नहीं करेगा। भक्ति भाव से मुझे जिस भी प्रकार का भोग लगाया जाएगा उसे मै तुरंत ही स्वीकार करूंगा। अपने भक्त की हर मनोकामना पूरी करूंगा और सालासर मे सदैव मेरा निवास होगा”।

ऐसा बोलकर सालासर बालाजी महाराज अदृश्य हो गए। दोनों भाई बहन दर्शन करके धन्य महसूस करने लगे। मोहन दास जी को मानो कोई खजाना मिल गया हो। इस वाकये के बाद मोहन दास जी मौन धारण कर एक शमी के वृक्ष के नीचे ध्यान साधना करने लगे। पागल समझकर लोग इन्हें बावलिया पुकारने लगे।

एक दिन रोज की तरह मोहनदास जी वृक्ष के नीचे बालाजी महाराज की ध्यान साधना कर रहे थे। अचानक से वृक्ष फलों से लद गया। एक जाट पुत्र ये देखकर फल तोड़ने के लिए वृक्ष पर चढ़ गया। फल तोड़ने की कोशिश में कुछ फल मोहनदास जी के ऊपर आ गिरे।

ध्यान साधना में मग्न मोहनदास जी महाराज ने सोचा कि कहीं कोई पक्षी गिरकर घायल न हो गया हो और देखने के लिए अपनी आंखे खोल दी। उन्होने पक्षी की जगह जाट पुत्र को वृक्ष पर चढ़ा पाया। मोहनदास जी को अपनी ओर देखता देखकर जाट पुत्र घबरा गया। मोहन दास जी ने उसे प्रेम से नीचे उतरने को कहा।

जाट पुत्र ने नीचे उतर कर बताया कि वृक्ष से फल तोड़ कर लाने के लिए उसे उसके पिता ने कहा था। माता के विरोध करने पर पिता ने बोला था कि वो बावलिया तुझे खा थोड़े ही जाएगा। मोहन दास जी ने जाट पुत्र को फल ले जाने दिए और साथ ही उसके पिता के लिए एक संदेश भेजा कि इस फल को खाने वाला कभी जिंदा नहीं रह सकेगा

जाट पुत्र ने जाकर सारी बात अपने पिता को बतायी। सब सुन कर जाट ने बाबा की बातें खिल्ली में उड़ा दी। बताया जाता है कि जाट के फल खाते ही उस जाट की मृत्यु हो गई। इस घटना के बाद वहाँ के स्थानीय लोगों में बाबा मोहनदास जी के प्रति सम्मान जागने लगा और वे अनेक चमत्कारिक घटनाओं के साक्षी भी बने।

एक बार मोहनदास जी के भांजे उदय ने देखा कि मामा जी के शरीर पर बड़े बड़े पंजों के निशान है। उदय के पूछने पर वो टाल गए लेकिन बाद में पता चला कि मामा मोहन दास जी और बालाजी महाराज सदैव साथ में रहते हैं और क्रीड़ा खेल किया करते हैं। जिस कारण से ये निशान इनके शरीर पर बने हुए हैं। ये बातें दूर दूर के क्षेत्रों और गाँव में फैलने लगी और लोग नित्य इनके दर्शनों के लिए सालासर आने लगे।

उन दिनों में सालासर बालाजी बीकानेर राज्य मे हुआ करता था। जिसका शासन ठाकुरों के हाथ में हुआ करता था। शोभासर के ठाकुर धीरज सिंह जी सालासर की देखरेख किया करते थे। विश्वस्त सूत्रों के हवाले से उन्हें एक दिन सूचना मिली कि कुछ डाकुओं का एक दल इस ओर आ रहा है। समय की इतनी कमी थी कि बीकानेर राज्य से सैन्य सहायता भी नहीं मंगवाई जा सकती थी।

सालासर के ठाकुर सालम सिंह के कहने पर धीरज सिंह बाबा मोहनदास के पास सहायता मांगने गए। मोहनदास जी ने उन्हें शांत किया और कहा कि बालाजी महाराज का नाम मन में ले कर डाकुओं की पताका को ध्वस्त कर देना चूंकि विजय पताका ही किसी भी सेना की शक्ति होती है। जैसा मोहनदास जी ने बताया ठाकुरों ने ठीक वैसा ही किया।

जब डाकू सालासर गाँव में आए सैनिको ने डाकुओं की विजय पताका को बालाजी महाराज का नाम लेकर अपनी तलवार से काट दिया और उन डाकुओं का सरदार ठाकुर के पैरों पर आकर गिर पड़ा।

इस घटना के बाद ठाकुरों का विश्वास बाबा मोहनदास के प्रति बलवान होता चला गया। बालाजी महाराज की कृपा देखकर बाबा मोहनदास ने गाँव में बालाजी महाराज का एक भव्य मंदिर बनवाने को सोचा और ठाकुर सालम सिंह ने पूरी मदद देने का भरोसा भी उन्हें दिया।

ठाकुर सालम सिंह जिनके ससुर आसोटा नामक ग्राम मे रहा करते थे, उन्हें बालाजी महाराज की मूर्ति भिजवाने को संदेशा भेजा गया। जो कि सन् 1754 की घटना मानी जाती है।

इसी घटना के बाद आसोटा ग्राम में भी एक घटना घटित हुई। वहां एक किसान सुबह सुबह अपने खेत में काम कर रहा था। खेत जोतते – जोतते किसान का हल किसी चीज से टकराया। जिज्ञासावश किसान ने जमीन को खोद कर देखा तो उसे वहां एक मूर्ति मिली। किसान ने उस मूर्ति को निकालकर एक साइड में रख दिया और फिर से अपने काम में लग गया।

अचानक से काम करते करते उसके पेट में तेज दर्द हुआ और वो गिर पड़ा। उसकी पीड़ा इतनी थी कि वह दर्द से जोर जोर से चिल्लाने लगा। उसकी आवाज सुन कर उसकी पत्नी उस ओर दौड़ी चली आई और उससे कारण पूछने लगी।

किसान ने मूर्ति निकलने से लेकर पेट में तेज दर्द होने तक की घटना अपनी पत्नी को बतायी। चूंकि, किसान की पत्नी काफी बुद्धिमान थी, उसने बालाजी महाराज की मूर्ति को अपने आंचल से साफ किया और मिट्टी हटायी। जैसी ही मिट्टी हटी पत्नी को हनुमान जी महाराज राम लक्ष्मण जी को अपने कंधे पर बिठाए नजर आए। मूर्ति काले रंग की थी उसने मूर्ति को वही एक पेड़ के नीचे स्थापित करके पूजा और आराधना की साथ ही अपने पति के लिए क्षमा भी मांगी। अचानक से पति के हो रहा पेट का दर्द दूर हो गया और वो स्वस्थ खड़ा हो गया।

अब तो ये बात आग की तरह पूरे गाँव में फैल गई। ये सुन कर आसोटा के ठाकुर चम्पावत भी देखने यहां आए और दर्शन करके मूर्ति को अपने साथ अपनी हवेली ले गए। रात जब वे सो गए तो बालाजी महाराज ने उन्हें सपने में दर्शन दिए और मूर्ति को सालासर पहुंचाने को कहा।

अगले दिन ठाकुर साहब ने मूर्ति को एक बैल गाड़ी मे रखा उसे सजाया, मूर्ति की पूजा अर्चना की और अपने सैनिकों के साथ सालासर की ओर रवाना कर दिया। रास्ते में भजन कीर्तन होते रहे। उसी रात बाबा मोहनदास जी को भी बालाजी महाराज ने दर्शन देकर कहा कि मेरी मूर्ति काले रंग के रूप में गाँव आ रही है। मूर्ति आगमन के बाद ठाकुर सालम सिंह और बाबा मोहनदास जी ने समस्त ग्रामवासियों के साथ सालासर बालाजी महाराज की विधि विधान से पूजा अर्चना की और सालासर बालाजी की मूर्ति की स्थापना की।

एक दिन श्रावण द्वादशी के दिन जिस दिन मंगलवार भी था बाबा मोहनदास जी ने बाबा का घी और सिंदूर से श्रंगार किया। अचानक से मानो एक चमत्कार हुआ और वह काले रंग की मूर्ति जिस पर हनुमान जी श्री राम और लक्ष्मण जी को अपने कंधे पर उठाए हुए थे, उस मूर्ति का रूप बदल गया। उसके स्थान पर दाढ़ी मूँछ, माथे पर तिलक और भोहें सुंदर आंखे और हाथ में पर्वत लिए नजर आने लगे। तबसे सालासर बालाजी महाराज यहां पर इसी रूप में विराजमान हैं।

माता अंजनी का मन्दिर सालासर बालाजी – Salasar Places To Visit

सालासर बालाजी से महज दो किलोमीटर की दूरी पर स्थित माँ अंजनी का मन्दिर लक्ष्मणगढ़ रोड पर पड़ता है। पूरे भारत वर्ष में अंजनी माता को बेहद ही शेर दिल करुणा मयी माँ के रूप में जाना जाता है। रामायण के एक प्रसंग के अनुसार माँ अंजनी ने अपने दूध की धार से एक पर्वत को चूर चूर कर दिया था। ऐसी बलवान माँ अंजनी की संतान है बाला जी महाराज।

मंदिर में स्थित मूर्ति ऐसी है जिसमें माँ अंजनी हनुमान जी को अपनी गोद में उठाए हुए हैं। इनके एक हाथ में शंख तो दूसरे हाथ में कलश है। चतुर्दशी हाथो वाली ये मूर्ति अत्यंत ही आँखो को सुख देने वाली हैं।

इस मंदिर की लोकप्रियता भी बहुत अधिक है। आम जनमानस में मान्यता है कि यहाँ दर्शन से माँ का आशीर्वाद मिलता है और मनोकामनाएं पूरी होती है। सुहागिन स्त्रियाँ यहां आकर माता से सुखी वैवाहिक जीवन की प्रार्थना करती हैं। यहां की स्थानीय रीति के अनुसार हर विवाह का प्रथम निमंत्रण माता रानी को दिया जाता है ताकि माता की कृपा नव दंपत्ति पर बनी रहे और निर्विघ्न रूप से विवाह सम्पन्न हो सके। इस मंदिर का जीर्णोद्धार सन् 1963 में किया गया था।

Best Day And Time To Visit Salasar Balaji – सालासर बालाजी

यहां प्रति वर्ष लगने वाले दो मेलों की बहुत मान्यता है।

  1. अंग्रेजी कैलेंडर के अप्रेल माह में आने वाली श्री हनुमान जयंती पर लगने वाला मेला।
  2. अक्टूबर में लगने वाला शरद पूर्णिमा का मेला।

इसके अलावा होली, दीवाली और विजया दशमी के दिन भी यहां भारी मेला लगता है। अक्टूबर से अप्रेल तक का समय यहां आने के लिए मौसम के हिसाब से अच्छा समझा जाता है। वैसे यहां की लोकप्रियता इतनी बढ़ गई है कि साल भर यहां भक्तों का ताता लगा रहता है।मंगलवार और शनिवार के दिन यहाँ बहुत ही ज्यादा भीड़ रहती है। अगर आप भीड़ मे दर्शन करने के आदी नहीं है तो यहाँ आकर दर्शन करने का बेस्ट दिन मंगलवार , शनिवार और रविवार को छोड़कर सभी दिन है ।

Salasar Balaji Aarti Timings And Darshan Timings – सालासर बालाजी महाराज के दर्शन व आरती का समय :-

प्रातः 04:30 बजे – मंदिर कपाट का खुलना

प्रातः 05:00 बजे – मंगल आरती का समय

प्रातः 10:30 बजे – बालाजी महाराज का राजभोग

साॅय 06:00 बजे – धूप और मोहनदास जी की आरती

साॅय 07:30 बजे – बालाजी की आरती

रात्रि 08:15 बजे – बाबा का बाल भोग

रात्रि 10:00 बजे – बाबा की शयन आरती

Note : हर मंगलवार को प्रातः 11:00 बजे सालासर बालाजी महाराज की राजभोग आरती भी होती है।

Where To Stay In Salasar Balaji ? – Salasar Balaji Hotels And Dharmshala

यहां रुकने के लिए पांच सितारा से लेकर सात सितारा होटल की सुविधाएं मौजूद हैं। कुछ धर्मशालाओं में रुकने का कोई चार्ज नहीं लिया जाता है। ये पूरी तरह से निःशुल्क हैं जिसके लिए रात्रि बालाजी मंदिर सालासर के समिति कार्यालय में जाकर बुकिंग करवायी जा सकती है। अन्य पेड धर्मशाला और होटल जहां चार्ज लिया जाता है इस प्रकार से हैं।

  1. श्रीमति लक्ष्मी देवी पोद्दार सेवा सदन, सालासर बाईपास रोड, सालासर – 331506, मोबाइल नंबर – 096729-99509, वेबसाइट – http://www.poddarsevasadan.com
  2. अंजनी धाम हवेली सालासर, लक्ष्मणगढ़ रोड, नियर अंजनी माता मंदिर, सालासर – राजस्थान – 332318, मोबाइल नंबर – 099820-92222
  3. SBM HOTEL, नियर सालासर बालाजी मंदिर, सालासर – राजस्थान – 331506, वेबसाइट – http://www.sbmhotel.com/360/
  4. Anjney Hotel, Balaji Temple Road, Main Market, Front of East gate of Balaji Mandir, Salasar, Rajasthan 331506 Phone Number : 01568-253-147
  5. GHB HOTEL, Near Balaji Temple, Balaji Temple Road, Salasar Rajasthan – 331506, Contact # 01586-252-613
  6. Hotel Sun Shine, मंदिर रोड, सालासर, Contact # 01568-252-992
  7. सिरसा धर्मशाला, सालासर, राजस्थान
  8. श्री बालाजी गेस्ट हाउस, श्री बालाजी मंदिर के सामने, अंजनी माता मंदिर रोड, सालासर
  9. श्री जय हनुमान गंगानगर धर्मशाला चैरीटेबल ट्रस्ट, सालासर जिला चूरू, Contact # 01568-252029
  10. मालू धर्मशाला, सालासर राजस्थान – 331506
  11. श्री मुरलीधर मानसिंह गेस्ट हाउस, सालासर
  12. श्री जगन्नाथ भवन, सालासर राजस्थान, Contact # 078910 40826
  13. The Great Western Resort, Near Indane Gas Agency, Laxmangarh Bypass Ring Road, Salasar, Rajasthan 331506, Contact # 099834-78555, Website
  14. श्रीजन सेवा सदन, संगरूर सेवा सदन के पीछे, लक्ष्मणगढ़ बाईपास, सालासर राजस्थान 341506, Contact # 01568-252-555, Website
  15. चमेली देवी अग्रवाल सेवा सदन, लक्ष्मणगढ़ बाईपास, नियर अंजनी माता मंदिर, सालासर राजस्थान 331506, Contact # 01568-272-310, Facebook Page
  16. जैसवाल सेवा सदन, चूरू सालासर, राजस्थान, Contact # 01568-252-786
  17. राम स्वरूप सेवा सदन, सालासर राजस्थान 331506, Contact # 097721-63007
  18. फतेहाबाद सेवा सदन, सालासर राजस्थान 331506
  19. पूर्णिमा गेस्ट हाउस, सालासर सीकर रोड, सालासर राजस्थान 331506, Contact # 094144-00360
  20. BHARIA’S HOTEL LAXMI PALACE, लक्ष्मणगढ़ सालासर बालाजी रोड, नियर jajod, सालासर धाम, राजस्थान 332318, Contact # 096106-26666
  21. जींद सदन धर्मशाला, सालासर राजस्थान 331506, Contact # 093916-43261
  22. अंजनी धाम सेवा सदन, संसार पुर सीकर, SH-7, चूरू रोड, रतनगढ़, राजस्थान 331506

Shri Salasar Balaji Hanuman Ji Ki Aarti

जयति जय जय बजरंग बाला।
कृपा कर सालासर वाला ॥

चैत सुदी पूनम को जन्मे।

अंजनी पवन ख़ुशी मन में ॥

प्रकट भय सुर वानर तन में।
विदित यस विक्रम त्रिभुवन में ॥

दूध पीवत स्तन मात के।
नजर गई नभ ओर ॥

तब जननी की गोद से पहुंचे।
उदयाचल पर भोर ॥

अरुण फल लखि रवि मुख डाला ॥ कृपा कर० ॥ 1 ॥

तिमिर भूमण्डल में छाई।
चिबुक पर इन्द्र बज बाए ॥

तभी से हनुमत कहलाए।
द्वय हनुमान नाम पाये ॥

उस अवसर में रुक गयो।
पवन सर्व उन्चास ॥

इधर हो गयो अन्धकार।
उत रुक्यो विश्व को श्वास ॥

भये ब्रह्मादिक बेहाला ॥ कृपा कर ॥ 2 ॥

देव सब आये तुम्हारे आगे।
सकल मिल विनय करन लागे ॥

पवन कू भी लाए सागे।
क्रोध सब पवन तना भागे ॥

सभी देवता वर दियो।
अरज करी कर जोड़ ॥

सुनके सबकी अरज गरज।
लखि दिया रवि को छोड़ ॥

हो गया जगमें उजियाला ॥ कृपा कर ॥ 3 ॥

रहे सुग्रीव पास जाई।
आ गये बनमें रघुराई ॥

हरिरावणसीतामाई।
विकलफिरतेदोनों भाई ॥

विप्ररूप धरि राम को।
कहा आप सब हाल ॥

कपि पति से करवाई मित्रता।
मार दिया कपि बाल ॥

दुःख सुग्रीव तना टाला ॥ कृपा कर ॥ 4 ॥

आज्ञा ले रघुपति की धाया।
लंक में सिन्धु लाँघ आया ॥

हाल सीता का लख पाया।
मुद्रिका दे बनफल खाया ॥

बन विध्वंस दशकंध सुत।
वध कर लंक जलाया ॥

चूड़ामणि सन्देश त्रिया का।
दिया राम को आय ॥

हुए खुश त्रिभुवन भूपाला ॥ कृपा कर ॥ 5 ॥

जोड़ कपि दल रघुवर चाला।
कटक हित सिन्धु बांध डाला ॥

युद्ध रच दीन्हा विकराला।
कियो राक्षस कुल पैमाला ॥

लक्ष्मण को शक्ति लगी।
लायौ गिरी उठाय ॥

देई संजीवन लखन जियाये।
रघुवर हर्ष सवाय ॥

गरब सब रावन का गाला ॥ कृपा कर ॥ 6 ॥

रची अहिरावन ने माया।
सोवते राम लखन लाया ॥

बने वहाँ देवी की काया।
करने को अपना चित चाया ॥

अहिरावन रावन हत्यौ।
फेर हाथ को हाथ ॥

मन्त्र विभीषण पाय आप को।
हो गयो लंका नाथ ॥

खुल गया करमा का ताला ॥ कृपा कर ॥ 7 ॥

अयोध्या राम राज्य कीना।
आपको दास बना लीना ॥

अतुल बल घृत सिन्दूर दीना।
लसत तन रूप रंग भीना ॥

चिरंजीव प्रभु ने कियो।
जग में दियो पुजाय ॥

जो कोई निश्चय कर के ध्यावै।
ताकी करो सहाय ॥

कष्ट सब भक्तन का टाला ॥ कृपा कर ॥ 8 ॥

भक्तजन चरण कमल सेवे।
जात आय सालासर देवे ॥

ध्वजा नारियल भोग देवे।
मनोरथ सिद्धि कर लेवे ॥

कारज सारो भक्त के।
सदा करो कल्यान ॥

विप्र निवासी लक्ष्मणगढ़ के।
बालकृष्ण धर ध्यान ॥

नाम की जपे सदा माला।
कृपा कर सालासर ॥ 9 ॥

follow Us On:

4 thoughts on “सालासर बालाजी महाराज की सारी जानकारी – क्यों, कब और कैसे ?

Leave a Reply