बालाजी महाराज के महंत श्री किशोरपुरी जी

इस नवरात्र बालाजी महाराज की सेवा का संदेश देते गुरु महाराज श्री किशोरपुरी जी

नवरात्र के पावन पर्व पर घाटा मेहंदीपुर के दर्शन देखने लायक है। गुरु महाराज श्री किशोरपुरी जी महाराज माता रानी की भक्ति में लीन है। इनके द्वारा किए गए कार्य जिस तरह से बालाजी महाराज की महिमा को सुशोभित कर रहे हैं वाकई में प्रशंसनीय हैं।

प्रथम गुरु श्री गणेशपुरी जी के योग्य उत्तराधिकारी के रूप में गुरु महाराज श्री किशोरपुरी जी बालाजी महाराज की कीर्ति मे रोज नित नये आयाम स्थापित करते जा रहे हैं। इनकी धर्म परायणता आज के माहोल में निश्चित ही नई युवा पीढ़ी और इनके शिष्यों को इनके पथ मार्ग की ओर चलते रहने को उत्साहित करती है।

नौ दिन तक चलने वाले इस नवरात्र के पर्व पर नित्य रूप से कन्याओं को सम्मान के साथ गुरु महाराज द्वारा बिठा कर भोजन कराना, वस्त्र, शिक्षा की पुस्तकें उपहार स्वरूप देना यह दर्शाता है कि आप की दृष्टि कितनी दूरगामी है।

कन्याओं को सम्मान देना दर्शाता है कि हिन्दू धर्म में स्त्री रूप को महानतम स्थान दिया गया है। स्त्रियाँ, महिलाएं या कन्याएं प्रथम रूप से पूजनीय हैं। ये परिवार के हर स्तंभ पर अडिग रूप से खड़ी नजर आती हैं चाहे परिस्थितियां कितनी ही विपरीत क्यों न हो। विपत्तियों से ना घबराना और सहनशीलता की पराकाष्ठा इनमे कूट कूट कर भरी होती है। जिसके बल पर ये किसी भी चुनौती से आसानी से पार पा जाती हैं।

हमारे देश में आज महिलाओं की स्थिति में तुलनात्मक काफी सुधार हुआ है चाहे रोजगार की बात हो या शिक्षा की महिलाये हर मोर्चे पर आगे खड़ी हैं। गुरु महाराज द्वारा किताबें भेंट करना यही दर्शाता है कि महिला सशक्तिकरण की ओर मे उन्हें शिक्षा की ओर ले जाना एक मूलभूत कदम है।

हांलाकि, देश में महिलाओं की शिक्षा के मामले में स्थिति इतनी अच्छी नहीं है लेकिन इन्हें मौका मिलने पर हर बार बालिकाओं ने हर प्रकार की परीक्षाओं में पुरुषों से बेहतर ही प्रदर्शन किया है चाहे आप किसी भी शैक्षणिक या प्रतियोगिता का परिणाम उठा कर देख लें, बालिकाएं हर जगह पुरुषों से आगे ही हैं।

गुरु श्री किशोरपुरी जी द्वारा नवरात्र के अवसर पर पुस्तकें भेंट करना और शिक्षा के लिए प्रेरित करना हम सबके लिए यही एक सबक है कि चाहे बहाना त्योहार का हो हमे अगर बालाजी महाराज की सच्ची सेवा करनी है तो हर स्तंभ पर खड़े रहने वाली बालिकाओं को आगे बढ़ाना होगा।

अगर हम एक भी बेटी की शिक्षा अच्छे से पूरी करा सकेंगे तो निश्चित ही हम राष्ट्र के साथ साथ अपने गुरु और अपने आराध्य श्री बालाजी महाराज की सेवा कर पाएंगे।

जय बाबा की।

मेहंदीपुर बालाजी टेम्पल – जाने यहां की पूरी जानकारी हिन्दी में 

follow Us On:

Leave a Reply